त्र्यंबकेश्वर नासिक कालसर्प पूजा

by Anuj Guruji
69 views
त्र्यंबकेश्वर नासिक कालसर्प पूजा

क्या आपकी कुंडली में कालसर्प दोष है? क्या आप त्र्यंबकेश्वर नासिक कालसर्प पूजा अनुष्ठान करने के लिए सबसे अच्छी जगह या मंदिर की तलाश कर रहे हैं?

इस लेख में, हम आपको काल सर्प पूजा करने से पहले वह सब कुछ बताएंगे जो आपको जानना आवश्यक है।

काल सर्प दोष क्या हैं?

काल सर्प दोष तीन हिंदी शब्दों काल, सर्प और दोष से बना है जहाँ काल का अर्थ है “समय”, सर्प का अर्थ है “साँप” और दोष का अर्थ है “त्रुटि”। काल सर्प योग किसी की कुंडलिनी (जिसे जन्मदिन राशिफल भी कहा जाता है) में दोष है।

ज्योतिष के अनुसार काल सर्प योग आमतौर पर पिछले कर्मों का परिणाम होता है। यह तब हो सकता है जब किसी व्यक्ति ने वर्तमान या पिछले जन्म में किसी प्राणी/सांप को नुकसान पहुंचाया हो। जब सभी ग्रह राहु और केतु के बीच संरेखित होते हैं और वे 180 डिग्री के कोण का निर्माण करते हुए एक दूसरे का सामना करते हैं, तो सभी ग्रह राहु और केतु के बीच सैंडविच होते हैं।

काल सर्प योग का चिन्ह अक्सर उनकी कुंडली पर दिखाई देता है। इन योगों के 12 प्रकार हैं, अर्थात्: अनंत, कुलिका, वासुकी, शंखपाल, पद्म, महापद्म, तक्षक, कर्कोटक, शंखचूर, घटक, विशधर और शेष नाग। जब काल सर्प योग नाम के एक व्यक्ति ने अपने पुत्र कुंडली को जन्म दिया, तो उसने एक ज़िगज़ैग सांप बनाया।

कालसर्प दोष कितने प्रकार के होते है?

कालसर्प दोष 12 प्रकार के होते हैं –

  1. कर्कोटक काल सर्प दोष
  2. शेषनाग काल सर्प दोष
  3. घातक काल सर्प दोष
  4. शंखनाद काल सर्प दोष
  5. विषधर काल सर्प दोषो
  6. तक्षक काल सर्प दोष
  7. अनंत काल सर्प दोष
  8. कुलिक काल सर्प दोषो
  9. वासुकी काल सर्प दोष
  10. महापदम काल सर्प दोष
  11. पदम काल सर्प दोष
  12. शंखपाल काल सर्प दोष

काल सर्प दोष होने पर क्या होता है?

जब आपकी कुंडली में काल सर्प दोष होता है, तो आप काल सर्प दोष के सामान्य प्रभाव देखेंगे जैसे,

  • जीवन में बाधाएं
  • कड़ी मेहनत के नतीजे उम्मीद से ज्यादा खराब
  • शांति की कमी या मानसिक विकार
  • संगीन का सपना देख
  • स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं
  • विभिन्न प्रकार की कठिनाइयाँ
  • कम आत्मसम्मान और आत्मविश्वास
  • व्यापार में हानि
  • तनाव और चिंता
  • रिश्तों में तनाव
  • पारिवारिक झगड़े

सर्प दोष कितने समय तक रहता है?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कालसर्प दोष की अवधि पूरी तरह से राहु की स्थिति पर निर्भर करती है:

  • यदि राहु की स्थिति प्रथम भाव में हो तो कालसर्प दोष का प्रभाव 27 वर्ष तक रहता है।
  • जब राहु दूसरे भाव में होता है, तो काल सर्प दोष का प्रभाव 33 वर्ष तक रहता है
  • यदि राहु तीसरे भाव में हो तो काल सर्प दोष का प्रभाव 36 वर्ष तक रहता है
  • जबकि राहु चतुर्थ भाव में है कालसर्प दोष का प्रभाव 42 वर्ष तक रहता है।
  • यदि राहु पंचम भाव में हो तो कालसर्प दोष का प्रभाव 42 वर्ष तक रहता है।
  • यदि राहु छठे भाव में हो तो कालसर्प दोष का प्रभाव 42 वर्ष तक रहता है।

त्र्यंबकेश्वर नासिक कालसर्प पूजा किसे करनी चाहिए?

यह पूजा उन लोगों को करनी चाहिए जिनकी कुंडली में काल सर्प दोष है। यदि आप कालसर्प दोष के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो आप किसी ज्योतिषी से सलाह ले सकते हैं। जो लोग ग्रहों की स्थिति से प्रभावित हैं उनके लिए विशेषज्ञ कुछ उपाय सुझाएंगे।

विशेषज्ञ की सलाह के आधार पर आप पूजा कर सकते हैं और रुद्राक्ष और यंत्र आदि धारण कर सकते हैं।

राहु और केतु के विपरीत दिशा में मंगल और शनि होने पर काल सर्प योग व्यक्ति को आंशिक रूप से प्रभावित करता है। यदि किसी छोटे बच्चे में काल सर्प दोष है, तो उसके माता-पिता उसके जीवन या भविष्य की बेहतरी के लिए उसके लिए यह पूजा कर सकते हैं।

आपको त्र्यंबकेश्वर नासिक कालसर्प पूजा कब करनी चाहिए?

इस पूजा को करने के लिए अमावस्या सबसे अच्छा दिन है। यह चंद्र या सूर्य ग्रहण के दौरान भी हो सकता है। यह पूजा नाग पंचमी, रविवार और मंगलवार को भी की जाने की उम्मीद है। सर्वोत्तम परिणामों के लिए वर्ष में दो बार पूजा करने की भी सिफारिश की जाती है।

उत्तरायण काल ​​के दौरान, जो 15 जनवरी से 15 जुलाई तक रहता है, काल सर्प दोष पूजा भी की जा सकती है। यह दक्षिणायनम की तारीखों के बीच भी हो सकता है, जो 15 जुलाई और 15 जनवरी हैं।

काल सर्प पूजा के लिए कौन सा मंदिर प्रसिद्ध है?

काल सर्प दोष निवारण पूजा करने के लिए त्र्यंबकेश्वर आदर्श स्थान है। त्र्यंबक महाराष्ट्र जिले के नासिक में है। यह बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है और त्र्यंबकेश्वर में सर्वश्रेष्ठ काल सर्प पूजा को अधिक उत्पादक और प्रभावी बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायदि आप इस अनुष्ठान को करना चाहते हैं, तो आप हमारे साथ जुड़ सकते हैं और आप त्र्यंबकेश्वर नासिक कालसर्प पूजा पंडित से संपर्क कर सकते हैं अनुज गुरुजी – 7030000923।ता है। शिव पुराण के अनुसार एक ज्योतिर्लिंग, शुभ शिव का एक आदर्श प्रतिनिधित्व है। यह भगवान शिव का तेज प्रकाश है।

त्र्यंबकेश्वर के अलावा अन्य ज्योतिर्लिंगों में गुजरात में सोमनाथ, श्रीशैलम में मलिकार्जुन, आंध्र प्रदेश, उज्जैन में महाकालेश्वर, मध्य प्रदेश में ओंकारेश्वर, हिमालय में केदारनाथ, महाराष्ट्र में भीमाशंकर, वाराणसी में विश्वनाथ शामिल हैं।

जब आप महाराष्ट्र में हों तो आप भगवान शिव के आशीर्वाद के लिए त्र्यंबकेश्वर मंदिर जा सकते हैं।

यदि आप इस अनुष्ठान को करना चाहते हैं, तो आप हमारे साथ जुड़ सकते हैं और आप त्र्यंबकेश्वर नासिक कालसर्प पूजा पंडित से संपर्क कर सकते हैं अनुज गुरुजी – 7030000923

You may also like

Leave a Comment

Anuj Guruji 7030000923