कालसर्प पूजा खर्चा त्र्यंबकेश्वर

by Anuj Guruji
237 views
त्र्यंबकेश्वर कालसर्प पूजा खर्चा

काल सर्प दोष क्या है?

कालसर्प पूजा खर्चा त्र्यंबकेश्वर : काल सर्प दोष व्यक्ति की कुंडली में तब होता है जब सभी ग्रह राहु और केतु के बीच आ जाते हैं। राहु साँप का अगला भाग है और केतु साँप का शेष शरीर है। राहु और केतु अन्य सभी ग्रहों को अवशोषित करते हैं। इस दोष के कारण व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक ऊर्जा की कमी हो जाती है। वह स्वयं को सभी संकटों से घिरा हुआ पाता है। काल सर्प दोष किसी व्यक्ति के जीवन को 47 साल या कभी-कभी उसके पूरे जीवन में प्रभावित कर सकता है। यह प्रभाव ग्रहों की स्थिति के अनुसार निर्धारित होता है।

Read in English. Click Here. Trimbakeshwar Kalsarp Pooja Cost.

कालसर्प पूजा क्यों करें?

कई लोग ऐसे होते हैं जो अपनी कुंडली में कालसर्प दोष जानने के बाद भी इस पर ध्यान नहीं देते हैं। इस तरह की लापरवाही उनके जीवन में शारीरिक, मानसिक और आर्थिक परेशानी लेकर आती है। इसलिए जातक को अपनी कुंडली में कालसर्प दोष जानने के तुरंत बाद यह पूजा करनी चाहिए और इस दोष के कारण उत्पन्न होने वाली सभी समस्याओं को दूर करना चाहिए।

त्र्यंबकेश्वर में काल सर्प पूजा की लागत

इस पूजा के लिए एक निश्चित पूजा सामग्री है। लेकिन सबसे अच्छी बात यह है कि मूल निवासी सब कुछ इकट्ठा करने का यह बोझ नहीं उठाते बल्कि पंडित जी उनके लिए ऐसा करते हैं। मूल निवासियों को बाहर से कुछ भी लाने की आवश्यकता नहीं है।

कालसर्प पूजा खर्चा त्र्यंबकेश्वर

यदि जातक समूह में पूजा करता है तो रु. प्रति व्यक्ति 1100 दक्षिणा।

जातक व्यक्तिगत रूप से यह पूजा करना चाहता है तो दक्षिणा 2100 रुपये है।

यदि कोई जातक महापूजा करवाना चाहता है तो 5100 रुपये प्रति व्यक्ति दक्षिणा।

त्र्यंबकेश्वर कालसर्प पूजा बुकिंग – (पूजा कैसे बुक करें)

कालसर्प शांति पूजा करने के लिए त्र्यंबकेश्वर एक अद्भुत स्थान है। यह जगह महाराष्ट्र के नासिक जिले में है।

त्र्यंबकेश्वर में काल सर्प पूजा करने के लिए तीन पैकेज हैं।

कालसर्प पूजा खर्चा त्र्यंबकेश्वर के पैकेजेस

1. 5800 रुपये: इसमें 2 पंडित जी की दक्षिणा, पूजा सामग्री और 1008 बार राहु और केतु का जाप शामिल है।

2. 11800 रुपये: इसमें 4 पंडितजी की दक्षिणा, पूजा सामग्री और राहु और केतु का 5000 बार जाप शामिल है।

3. 25500 रुपये: इसमें 11 पंडित जी की दक्षिणा, पूजा सामग्री और राहु और केतु का पूरा जप शामिल है।

कालसर्प  दोष  उपाय

इस दोष के दुष्प्रभाव इस बात पर निर्भर करते हैं कि राहु और केतु के बीच ग्रह कैसे संरेखित होते हैं। इस दोष के प्रभावों को समझने के लिए जातक को अपने ज्योतिषी से संपर्क करना चाहिए और इसके समाधान के लिए कदम उठाना चाहिए। दोष के लिए कुछ प्रसिद्ध उपाय भी हैं। आइए उनमें से कुछ के बारे में यहां चर्चा करते हैं।

पीपल के पेड़ को पानी देना

कालसर्प दोष के दुष्प्रभावों को दूर करने के लिए यह एक आसान उपाय है।

जातक को प्रत्येक शनिवार को पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाना चाहिए।

यह एक बहुत ही आसान दिनचर्या  है जिसे जातक अपने जीवन में अपना सकता है।

भगवान शिव की पूजा

इस दोष से जूझ रहे जातकों के लिए भगवान शिव की पूजा करना काफी फायदेमंद साबित होता है।

हर शनिवार या हर पंचमी को नदी में 11 शिव फलों की पूजा करनी चाहिए और भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।

कालसर्प गायत्री मंत्र का उच्चारण भी इस दोष की निवारण में मदद करता है।

मंत्र का नियमित जाप

मन में भगवान शिव का ध्यान करने से महामृत्युंजय मंत्र का दिन में 108 बार जाप करने से व्यक्ति के जीवन में कालसर्प दोष दूर हो जाता है।

जाप करने से व्यक्ति को मानसिक शांति मिलती है और साथ ही उसके जीवन में खुशियां भी आती हैं।

नाग पंचमी का व्रत

इस दोष के जातकों को नाग पंचमी का व्रत करना चाहिए और भगवान नाग देवता की पूजा करनी चाहिए।

काल सर्प दोष निवारण पूजा

ऊपर बताए गए सभी उपाय  प्रभावी हैं, लेकिन इन सभी उपायों में काल सर्प दोष निवारण पूजा सर्वोपरि है।

इस पूजा के माध्यम से व्यक्ति की कुंडली में इस दोष के दुष्प्रभाव को कम किया जा सकता है और समाप्त किया जा सकता है।

भारत में यह पूजा मुख्य रूप से नासिक शहर के त्र्यंबकेश्वर मंदिर में होती है।

यहां इस पूजा के आयोजन का विशेष महत्व है और इसलिए कई लोग इस मंदिर में काल सर्प पूजा का आयोजन करते हैं।

इस पूजा के तहत मूलनिवासी भगवान शिव की पूजा करते हैं। यह पूजा शुभ मुहूर्त में किसी अनुभवी पंडित की देखरेख में ही करनी चाहिए।

त्र्यंबकेश्वर में काल सर्प पूजा के लिए सर्वश्रेष्ठ पंडित

यदि कोई व्यक्ति अपनी कुंडली में मौजूद दोष के बारे में जानना चाहता है तो वे ज्योतिष विशेषज्ञ से अनुरोध कर सकते हैं।

विशेषज्ञ व्यक्ति को ग्रहों की स्थिति के आधार पर कुछ उपाय बताते हैं।

ऐसे कई पंडित हैं जो विशेषज्ञ होने का दावा करते हैं लेकिन आपको किसी वास्तविक व्यक्ति से मिलना चाहिए।

हम पंडित अनुज गुरुजी को सलाह देते हैं क्योंकि पंडित जी त्र्यंबकेश्वर में पढ़े-लिखे और मान्यता प्राप्त हैं।

उन्हें इस क्षेत्र में 17 से अधिक वर्षों का अनुभव है।

पंडित जी पूजा को सफलतापूर्वक करने के लिए आवश्यक हर चीज की व्यवस्था करते हैं।

इनमें पूजा सामग्री, कपड़े, टिकट, पिक अप एंड ड्रॉप शामिल हैं।

पंडित अनुज गुरुजी त्र्यंबकेश्वर में रहने वाले एक प्रमुख पंडित जी हैं।

वह सभी हिंदू धार्मिक पूजा और अन्य अनुष्ठानों के विशेषज्ञ हैं।

You may also like

1 comment

Jaiprakaah March 9, 2022 - 2:47 am

I want to do kal sarab puja for my son. Pl advise

Reply

Leave a Comment

Anuj Guruji 7030000923